UP PCS J – UP Civil Judge (J D) Question Answer 2023

Question Answer in Hindi Part-1 UP PCS J – UP Civil Judge (Junior Division) & Uttarakhand P.C.S. (J) 

Q 1. ‘ग’ की हत्या करने के लिये ‘ख’ को ‘क उकसाता है। ‘ख’ ऐसा करने से इन्कार कर देत है।’क’ दोषी है

(a) किसी अपराध का नहीं

(b) हत्या करने का दुष्प्रेरण

(c) हत्या का प्रयल

(d) आपराधिक पड्यंत्र

उत्तर (b) हत्या करने का दुष्प्रेरण / Uttarakhand P.C.S. (J), 2016

LL.B और BA LL.B के Previous Year के Question Papers डाउनलोड करने का लिंक नीचे पोस्ट मे दिया गया है.

Q 2. अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा के लिये संयुक्त राष्ट्र संघ का कौन सा अंग सर्वप्रथम उत्तरदायी है

(a) महासभा

(b) सुरक्षा परिषद्

(c) सचिवालय

(d) अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय

उत्तर (b) सुरक्षा परिषद् / UP PCS 2002

Q 3. भारत के संविधान की उद्देशिका निम्नलिखित में से किसके द्वारा संशोधित की गयी?

(a) 38वें संविधान संशोधन द्वारा

(b) 39वें संविधान संशोधन द्वारा

(c) 29वें संविधान संशोधन द्वारा

(d) 42वें संविधान संशोधन द्वारा

उत्तर (d) 42वें संविधान संशोधन द्वारा / UP PCS 2000

Q 4. सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 104 के अन्तर्गत किसे नियम बनाने की शक्ति प्रदान की गई है?

(a) केन्द्र सरकार को

(b) राज्य सरकार को

(c) उच्चतम न्यायालय को

(d) उच्च न्यायालय को

उत्तर (d) उच्च न्यायालय को / Uttarakhand P.C.S. (J.) 2016

Q 5. प्रति-परीक्षा के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

(a) शील का साक्ष्य देने वाले साक्षियों की प्रति-परीक्षा की जा सकती है.

(b) प्रति-परीक्षा में सूचक प्रश्न नहीं पूछे जा सकते।

(c) किसी दस्तावेज को प्रस्तुत करने के लिए बुलाए गये किसी भी व्यक्ति की प्रति-परीक्षा की जा सकती है।

(d) किसी साक्षी की उसके द्वारा पूर्वतन किये गए लिखित कथनों के सम्बन्ध में प्रति-परीक्षा नहीं की जा सकती है।

उत्तर (a) शील का साक्ष्य देने वाले साक्षियों की प्रति-परीक्षा की जा सकती है. / U.P. Lower Subordinate, 2009 

Q 6. कब्जा स्वामित्व का प्रथम दृष्टया साक्ष्य है, इस सिद्धान्त का वर्णन किया गया है

(a) साक्ष्य अधिनियम की धारा-109

(b) साक्ष्य अधिनियम की धारा-111

(c) साक्ष्य अधिनियम की धारा-110

(d) साक्ष्य अधिनियम की धारा-112

उत्तर  (c) साक्ष्य अधिनियम की धारा-110 / UP PCS (J) 2006

Q 7. किस विचारण में अभियुक्त को दण्ड के प्रश्न पर सुना जाना आवश्यक नहीं है?

(a) सेशन न्यायालय के समक्ष विचारण

(b) वारण्ट मामलों का विचारण

(c) समन मामलों का विचारण

(d) ये सभी

उत्तर (c) समन मामलों का विचारण / M.P.P.C.S. (J.), 2011

Q 8. निम्नलिखित में से किस वाद में यह विनिश्चित किया गया कि भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 27, 24, 25 और 26 का एक अपवाद है

(a) कोटैय्या बनाम किंग इम्परर

(b) पाकला नारायण स्वामी बनाम इम्परर

(c) सामाल दास बनाम बिहार राज्य

(d) उत्तर प्रदेश राज्य बनाम देवमन उपाध्याय

उत्तर (a) कोटैय्या बनाम किंग इम्परर / U.P. Lower Subordinate, 2009 Exam.-8.1.2012

Click – सबसे अच्छी कानून की किताबें

Q 9. निम्नलिखित में से किस वाद में उच्चतम न्यायालय निर्णीत किया था कि सह-अभियुक्त की संस्वीकृति बहुत कमजोर प्रकृति का साक्ष्य है और इस प्रकार की संस्वीकृति दोषसिद्धि का आधार नहीं बन सकती है?

(a) नाथू बनाम उत्तर प्रदेश राज्य

(b) राम प्रकाश बनाम पंजाब राज्य

(c) कश्मीरा सिंह बनाम मध्य प्रदेश राज्य

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

उत्तर (c) कश्मीरा सिंह बनाम मध्य प्रदेश राज्य / U.P.P.C.S. (J) 2006

Q 10. संक्षिप्त विचारण में दोषसिद्धि की दशा में कारावास के दण्डादेश की अवधि अधिक नहीं होगी

(a) तीन माह से

(b) छ: माह से

(c) एक माह से

(d) पन्द्रह दिन से

उत्तर (b) छ: माह से / M.P.P.C.S. (J.). 2011

Click here – Download AIBE EXAM 2022 Previous Year Question Paper (Part-1)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!