drafting_pleading

Drafting, Pleading & Conveyancing – All Rules & Principles for a Law Student

ड्राफ्टिंग लिखना एक कला है, इसलिए इसे केवल और केवल लंबे अभ्यास के द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है।

Drafting, Pleading & Conveyancing (ड्राफ्टिंग प्लीडिंग और कन्वेयंसिंग) इसको हिंदी में अभिवचन, प्रारूपण एवं हस्तांतरण लेखन भी कहते हैं.

एक अच्छा Draft कैसे लिखें ?

सरल शब्दों में कहे तो ड्राफ्टिंग कानूनी दस्तावेज लिखने के कार्य को बताता है।

ड्राफ्टिंग की ये विशेषता होती है कि यह स्थिति या मुद्दे के महत्वपूर्ण-महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में संक्षिप्त जानकारी देता है।

इसलिए ड्राफ्टिंग अच्छी तरह से लिखने के लिए अधिवक्ताओं को धैर्य के साथ-साथ बहुत सारे कौशल की भी आवश्यकता होती है।

ड्राफ्ट को मानक गुणवत्ता वाले कागज जिसका आकार 20 गुणा 30 सेमी हो, उस पर ऊपर और बाईं ओर से 4 सेमी के मार्जिन, और दाईं और नीचे से 2.5 – 4 सेमी. के मार्जिन पर टैपिंग की जानी चाहिए।

Drafting, Pleading LLB Previous Year Paper

Drafting, Pleading BA LLB Previous Year Paper

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!